“खाकी में इंसान” को चरितार्थ करता पुलिस का यह कार्य-जमकर हुई सराहना अधिकारियों ने किया सैल्युट….

145
views

दैनिक रुड़की (दीपक अरोड़ा)::

रुड़की। उत्तराखंड के डीजी लॉ एन ऑर्डर अशोक कुमार  की एक पुस्तक है जिसका शीर्षक है “खाकी में इंसान” इसे चरितार्थ कर रही है पुलिस कर्मियों द्वारा किया जा रहा कार्य। रुड़की में पुलिस कर्मियों ने अपने खर्चे पर ऐसे लोगो तक खाद्य सामग्री भिजवाई  जो कि लॉकडाउन के बाद दो जून की रोटी को तरस रहे थे। पुलिस ने शहर के कई हिस्सों में दिहाड़ी मजदूरों और झुग्गी में रहनेवाले लोगों के बीच खाद्य पदार्थ वितरित किया। पुलिस अधिकारियों ने अधिनिस्थों के इस कार्य की सराहना की और उन्हें सैल्यूट किया।

पुलिसकर्मियों की लाठी मारते हुए और लोगों को फटकारते हुए बहुत वीडियो वायरल होते हैं और उनकी आलोचना भी की जाती है। आज पुलिस का दूसरा चेहरा भी शहर में नजर आया जगह-जगह पुलिसकर्मी झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले और निर्धन लोगों को खाद्य सामग्री और खाने के पैकेट बांटते नजर आए। रुड़की यातायात निरीक्षक मोहम्मद अकरम और उपनिरीक्षक योगेश सक्सेना ने आटा दाल चावल आदि खाद्य सामग्री के पैकेट बाजारों से खरीद कर सोलानी पार्क के करीब झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले लोगों को वितरित किए। वही दूसरी ओर गंगनहर कोतवाली के उपनिरीक्षक नीतीश शर्मा व विनय मोहन द्विवेदी ने गरीब लोगों को खाद्य पदार्थ के पैकेट वितरित किए। इन पुलिस कर्मचारियों का कहना है कि कि सामाजिक मेलजोल से दूरी बनाते हुए रुड़की शहर सहित अन्य कई प्रदेश में जिलों में ऐसे कई लोग है जिन्हें कर्फ्यू लोग डाउन के चलते रोजगार नहीं मिल पा रहा है। जैसे रिक्शा चालक मजदूरी करने वाले लोग अपना जीवन कैसे व्यतीत कर पा रहे होंगे। उन्होंने बताया कि सरकार पुलिस प्रशासन सहित कुछ ऐसे लोग भी हैं जो के गाह दिहाड़ी मजदूरों के बीच खाद्य पदार्थ वितरित करने का प्रबंध किया। इस सम्बंध में सीओ चन्दन सिंह बिष्ट ने बताया कि शहर में ऐसे कई एरिया है जहां पर गरीब तबके के लोग रहते हैं उनके लिए भी खाना वितरित करने की व्यवस्था की जा रही है। कम से कम रोज डेढ़ सौ से लगभग 200 के बीच खाना बनवा कर उन्हें पैकेट के जरिए पुलिस कर्मचारी द्वारा वितरित किया जाएगा। साथ ही उन्होंने कहा कि मैं ऐसे पुलिस अधिकारी व कर्मचारियों को सैल्यूट करता हूं जो कि इस कार्य को करने में अपना योगदान दे रहे हैं और अपनी जेब से पैसे ख़र्च करके ऐसे लोगों की मदद कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here