लॉकडॉउन::तीन दिन में मेरठ से नंगे पैर रूड़की पहुंचे यह चाचा भतीजे-मेयर गौरव गोयल से लेकर मीडिया और पुलिस कर्मियों ने मदद को आगे बढ़ाएं हाथ……

159
views

दैनिक रुड़की (दीपक अरोड़ा)::

रुड़की। लॉकडॉउन के बाद परिवहन सेवाएं बन्द होने के बाद प्रतिदिन सैकड़ो लोग हाईवे पर ऐसे लोग अपने घरों की ओर जाते नजर आते हैं जिनका घर हजारों किलोमीटर दूर है और वह पैदल ही उस ओर बढ़ने के प्रयास में जुटे हैं। लोग पैदल ही हजारों किलोमीटर की दूरी तय कर रहे हैं।

रुड़की में आज भी दर्जनों ऐसे लोग नजर आए जिनमें कोई हरिद्वार से मथुरा, अलीगढ़ का सफर पैदल ही तय कर रहे थे। उनका कहना था कि तीन नही चार दिन में तो अपने घर पहुंच ही जायेंगे। वहीँ चंडीगढ़ से हरिद्वार के लिए साइकिल पर चले युवकों का एक जत्था भी रुड़की से गुजरा। इसमें ही दो लोग ऐसे भी नजर आए जो नंगे पैर ही मेरठ से तीन दिन पहले पैदल चले थे उनकी हालत देख गणेशपुर पुल पर तैनात महिला दरोगा करुणा पंवार और महिला होमगार्ड अरुणा सैनी ने उनसे जानकारी ली तो उनमें से एक ने अपना नाम मनोज भारद्वाज बताया। उसने बताया कि वह मेरठ में अपने भतीजे के साथ मजदूरी करता है और तीन दिन पहले मेरठ से अपने गांव धनौरी धीर माजरा के लिए चले थे अब आज शाम तक घर पहुंचने की उम्मीद है। दोनो पुलिस कर्मियों ने उन्हें खाना उपलब्ध करवाया। इसके बाद मीडिया कर्मी दीपक अरोड़ा ने मामला मेयर गौरव गोयल को बताया उन्होंने दोनों की आर्थिक मदद की। दीपक अरोड़ा ने दोनों को नगर निगम कर्मचारी बिट्टू शर्मा की मदद से चप्पलें उपलब्ध करवाई और फिर ट्रैफिक लाइन में तैनात होमगार्ड ने उन्हें धनौरी तक बाईक से छोड़ा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here