अधिवक्ता संजीव वर्मा की शिकायत पर बेलडा ग्राम प्रधान जिला पंचायत सदस्य समेत कई अधिकारियों पर मुकदमें दर्ज……

WhatsApp Image 2023-08-19 at 7.49.17 PM
WhatsApp Image 2023-08-19 at 7.49.12 PM
WhatsApp Image 2023-08-19 at 7.49.37 PM
WhatsApp Image 2023-08-19 at 7.49.43 PM
WhatsApp Image 2023-08-19 at 7.49.42 PM
WhatsApp Image 2023-08-19 at 7.49.41 PM
PlayPause
previous arrow
next arrow
 
Shadow

दैनिक रुड़की (योगराज पाल)::

रुड़की। अधिवक्ता संजीव कुमार के द्वारा दर्ज शिकायत पत्रों के आधार पर दाखिल शिकायतों के आधार पर सीजेएम कोर्ट ने 2022 में बेलड़ा गांव से निर्वाचित ग्राम प्रधान सचिन कुमार व मेहवड खुर्द सीट से जिला पंचायत सदस्य सपना चौधरी पर नामांकन पत्र में तथ्य छुपा कर फर्जी दस्तावेज दाखिल करने के आरोप में मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए हैं। पुलिस ने आदेश के आधार पर मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया है। इसके साथ ही पुलिस ने तत्कालीन खंड विकास अधिकारी ब्लॉक रुड़की, ग्राम रोजगार सेवक सुशील कुमार, मनरेगा जेई रविंद्र कुमार, ग्राम पंचायत बेल्डा के मनरेगा लेखाकार मुनेश कुमार चौहान, निर्वाचित ग्राम प्रधान सचिन रोड पुत्र महेंद्र के साथ ही तत्कालीन लेखपाल अरविंद कुमार सैनी, तत्कालीन तहसीलदार, बाल विकास परियोजना अधिकारी ग्रामीण प्रथम व द्वितीय, खाद्य पूर्ति अधिकारी के साथ ही जिला पंचायत सदस्य सपना चौधरी पत्नी रोहित कुमार, रोहित पुत्र सुशील कुमार, सचिन कुमार पुत्र महेंद्र (ग्राम प्रधान), धर्मवीर पुत्र राजेंद्र, कल्पना पत्नी सचिन कुमार व रितु पत्नी धर्मवीर आंगनबाड़ी कार्यकत्री/सहायिका के खिलाफ भी भिन्न-भिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज करते हुए अग्रिम कार्रवाई शुरू कर दी है।रुड़की तहसील स्थित अपने चैंबर पर पत्रकारों से वार्ता करते हुए अधिवक्ता संजीव वर्मा ने बताया कि मेहवड खुर्द जिला पंचायत सीट से निर्वाचित हुई सपना चौधरी ने नामांकन दस्तावेजों में जो प्रमाण पत्र संलग्न किया है, इसमें उन्होंने जो राशन कार्ड जिसकी संख्या 1737314 है, जिसे ग्राम बेलडा का दर्शाया गया है, उसे आज तक भी विकास खंड रुड़की के ग्राम विकास अधिकारी द्वारा ऑनलाइन दर्ज नहीं किया गया है। साथ ही राशन कार्ड में जो वोटर आईडी जिसकी संख्या 0220434 है, संलग्न की गई है, इस वोटर आईडी पर भी ग्राम विकास अधिकारी के हस्ताक्षर फर्जी प्रतीत होते हैं, इसके अलावा जाति प्रमाण पत्र 4/08/21, स्थाई निवास प्रमाण पत्र संख्या 8/7/21 को तथा परिवार रजिस्ट्री की नकल आदि कागजात तत्कालीन ग्राम विकास अधिकारी व हल्का लेखपाल की मिली भगत से फर्ची व जाली रिपोर्ट के आधार पर जारी किए गए हैं, जिसमें हल्का लेखपाल द्वारा बेल्डा मुस्तकम में सपना चौधरी को 15 वर्ष का स्थाई निवासी दर्शाया गया है और 1985 से सपना चौधरी निवासरत है और जाति रोड दर्शायी गई है। इसके साथ ही जारी प्रमाण पत्र व मूल निवास प्रमाण पत्र, परिवार रजिस्ट्री की नकल में तथ्यों को छुपाते हुए फर्जी जाति, मूल निवास प्रमाण पत्र व राशन कार्ड बनाकर धन बल का प्रयोग करते हुए जीत दर्ज की गई, जो हर सूरत में निरस्त होने योग्य है। इसके अलावा भी अन्य कहीं गंभीर आरोप शिकायतकर्ता द्वारा लगाए गए हैं जबकि जो बिजली का कनेक्शन सपना चौधरी के नाम पर बेलडा गांव में दर्शाया गया है वह भी जांच में किसी सोमपाल पुत्र मुलहक के नाम पाया गया।वहीं शिकायतकर्ता संजीव ने यह भी बताया कि ग्राम प्रधान पद के नामांकन दस्तावेजों में जो अदेय प्रमाण पत्र जारी किया गया है, जो तथ्यों को छिपाकर किया गया। जबकि प्रधान रहते हुए भी सचिन ने पूर्व अधिकारियों से साज करके मनरेगा के मस्टरोल में मजदूरो की संख्या अधिक दर्ज कराई गई थी, जिसमें प्रधान रहते हुए सचिन को दोषी पाया गया था, इसमें प्रधान रहते हुए सचिन को 25,844 का भुगतान करने के साथ ही एक हजार रुपए का जुर्माना लगाया था। जिसमें प्रधान रहते हुए सचिन ने एक हजार का जुर्माना आज तक जमा नहीं कराया गया, इसके साथ ही पीसीबी की पाइप लाइन व अन्य मामलो मे भी लाखों करोड़ो का गबन किया गया है। जिसकी जांच भी लंबित है। पुलिस ने मामले में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। वहीं संजीव वर्मा ने कहा कि जांच यह भी होनी चाहिए कि सचिन के पास 25 बीघा जमीन से 300 बीघा जमीन कैसे हुई। इसके साथ ही आरोप लगाया कि सचिन द्वारा लगाए गए पेट्रोल पंप में भी रास्ते की जमीन को दबाया गया है इस मामले में भी वह मुकदमा दर्ज करवाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *