मुख्यमंत्री का आवास घेरने जा रहे किसानों को नारसन बॉर्डर पर रोका-पुलिस से हुई नोकझोंक.......

Dainik roorkee November 19, 2020

दैनिक रूड़की (राजू कुमार गौतम)::

मंगलौर।
मुख्यमंत्री आवास का घेराव करने जा रहे किसानों को पुलिस ने नारसन बॉर्डर पर रोक लिया। इसके बाद किसान वहीं धरने पर बैठ गए। बाद में किसानों ने अपनी मांगों से सम्बंधित ज्ञापन ज्वाइन्ट मजिस्ट्रेट को सौंप कर अपना धरना समाप्त किया।


गन्ना भुगतान एवं किसानों से जुड़ी अन्य समस्याओं को लेकर भाकियू तोमर ने 19 नवंबर को मुख्यमंत्री आवास का घेराव करने का एलान किया था। इसके साथ ही भगवानपुर में टोल प्लाजा पर भी धरना प्रदर्शन करने की चेतावनी दी थी। आज तय कार्यक्रम के अनुसार उत्तरप्रदेश के विभिन्न जिलों से भी किसान नारसन बॉर्डर से देहरादून की ओर रवाना होने लगे। लेकिन वहां पहले से तैनात पुलिस ने किसानों को बॉर्डर पर ही रोक लिया। इस दौरान स्थानीय किसान भी बॉर्डर पर एकत्र हो गए और राजधानी न जाने देने के वीरोध में बॉर्डर पर ही धरना शुरू कर दिया। भाकियू तोमर के राष्ट्रीय प्रवक्ता चौधरी चंद्रवीर सिंह ने बताया कि किसानों का हर जगह उत्पीड़न किया जा रहा है किसान को पिछले सत्र का संपूर्ण भुगतान अभी तक नहीं हो पाया है जिससे किसान की आर्थिक स्थिति बहुत ही नाजुक बनी हुई है इसी के साथ साथ गन्ने का मूल्य भी बहुत कम है जो कम से कम 500रुपए कुंतल की दर से किसान को दिया जाए। एक और सरकार किसानों का बकाया भुगतान कराने में नाकाम हो रही है वहीं दूसरी ओर बिजली विभाग द्वारा किसानों पर विजिलेंस की छापेमारी कॉल प्रताड़ित किया जा रहा है। जिलाध्यक्ष विकेश बालियान ने कहा एनएच 58 चल रहे कार्य में बहुत सी अनियमितता है ग्रामीणों ने किसानों के लिए सही रास्ते नहीं छोड़े जा रहे हैं जिससे किसान को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इस दौरान किसानों और पुलिस के बीच नोकझोंक भी हुई और बाद में ज्वाइन्ट मजिस्ट्रेट नमामि बंसल को किसानों ने अपनी मांगों से सम्बंधित ज्ञापन सौंपा।

Share This