'आज दिन रविवार 17 जनवरी क्या कहतें हैं आपकी किस्मत के सितारें जानिए राशिफ़ल.......''ब्रेकिंग न्यूज़::रूड़की के रामपुर में बाईक सवार बदमाशों ने वुजूर्ग को मारी गोली-बदमाशों की तलाश में जुटी पुलिस........''रूड़की::कोरोना वैक्सीन लगने के बाद बिगड़ी एक सफाई कर्मी की तबियत-हायर सेंटर रैफर.....''कलियर::फसल के दाम इतने कम कि खेत से निकालने की भी नही मिल रही लागत-किसानों ने ट्रैक्टर चलाकर नष्ट की फसल.........''स्वच्छता सर्वेक्षण में स्थान पाने वाली संस्थाएं नगर निगम ने की सम्मानित-रूड़की को स्वच्छता में नम्बर 1 पर लाने का लिया संकल्प........''उधमसिंह नगर में युवक के घर से बरामद हुई एक माह से लापता किशोरी-आरोपी के खिलाफ गम्भीर धाराओं में मुकदमा दर्ज.....'

दिल्ली जा रहे राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन कार्यकर्ताओं को नारसन बॉर्डर पर रोका-पुलिस से हुई नोकझोंक.......

Dainik roorkee November 28, 2020

दैनिक रूड़की (योगराज पाल)::

रुड़की।
दिल्ली कूच कर रहे राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के कार्यकर्ताओं को पुलिस ने रेलवे स्टेशन के समीप रोकने का प्रयास किया लेकिन कार्यकर्ता रूड़की से रवाना हो गए। इसके बाद मंगलौर पुलिस ने उन्हें नारसन बॉर्डर पर रोका इस दौरान पुलिस से कार्यकर्ताओं की नोकझोंक भी हुई।

संगठन के प्रदेश अध्यक्ष पदम् सिंह भाटी और जिलाध्यक्ष समीर आलम के नेतृत्व में राष्ट्रीय अध्यक्ष सरदार भीम सिंह के आह्वान पर किसान केंद्र सरकार के द्वारा लाए गए किसान विरोधी बिल के आक्रोश में आज दिल्ली कूच की बात कही थी। किसान संगठन की चेतावनी पर आज गंगनहर कोतवाली पुलिस ने दिल्ली रवाना हो रहे किसानों को रेलवे स्टेशन के समीप रोकने का प्रयास किया लेकिन विफल रही। लेकिन किसान यहां से रवाना हो गए। इस दौरान प्रदेश अध्यक्ष पदम् सिंह भाटी ने कहा कि जब तक केंद्र सरकार किसान विरोधी बिल को वापस या उसमें संशोधन नहीं करती तब तक किसान एक कदम भी पीछे हटने वाला। जिलाध्यक्ष समीर आलम ने कहा यह किसानों और मजदूरों की नहीं बल्कि यह पूंजी पतियों की सरकार बड़े-बड़े उद्योगपतियों की सरकार किसानों का लगातार शोषण कर रही है जबकि किसान प्रधान देश में प्राथमिकता सभी सरकारों की किसानों की होनी चाहिए लेकिन केंद्र सरकार उद्योगपतियों की कठपुतली बनकर रह गई है लगातार किसानों का शोषण हो रहा है किसान आत्महत्या कर रहे हैं उसके बावजूद भी ए सरकार इतना बड़ा बिल लेकर आई है किसान विरोधी जो बिल्कुल भी बर्दाश्त करने लायक नहीं है। उन्होंने कहा कि जब किसान अपनी आवाज उठाता है तो सरकार पुलिस को आगे लाकर उनकी आवाज को दबाने का काम करती है। रुड़की से दिल्ली जा रहे किसानों को नारसन बॉर्डर पर पुलिस ने रोक लिया। इस दौरान पुलिस और संगठन पदाधिकारियों की नोकझोंक भी हुई।
इस मौके पर निसादअली, रॉबिन मोहित,आशीष, हसरत, डॉक्टर कलीम,एहतेशाम, सोनू, समद, लियाकत,अनिल, पहल सिंह आदि मौजूद रहे।

Share This